भारत का नियाग्रा: चित्रकोट

  • SocialTwist Tell-a-Friend

छत्तीसगढ़ बनने के बाद पहले गुमनाम रहे बस्तर में भी पर्यटकों की बड़ी संख्या यहां के प्रपातों, गुफाओं, राष्ट्रीय उद्यानों व यहां की निराली दुनिया को देखने आने लगी है। बहुत ही कम लोगों को यह जानकारी है कि बस्तर में ही भारत के विशालतम जलप्रपात के अतिरिक्त अन्य दर्शनीय जलप्रपात हैं। बस्तर आने के लिए पहले जगदलपुर आना होता है जो कि बस्तर का प्रमुख नगर है। उत्तर से यदि आप आ रहे हैं तो राजधानी रायपुर तक रेल से व उसके बाद सड़क मार्ग से जगदलपुर की दूरी 300 किमी. और यदि आप दक्षिण से आ रहे हों तो बरास्ता विशाखापट्टनम से रेल से जगदलपुर 320 किमी. दूर है। हालांकि इस सफर में लगते हैं पूरे 10 घंटे, किंतु इस मार्ग से यदि आप गुजरते हैं तो आपको आन्ध्र व उड़ीसा की पहाडि़यों के सौंदर्य को देखने का एक अद्भुत अनुभव होता है तो इस अनूठे रेल मार्ग की विविधता एक रोमांच पैदा करती है। बस्तर के जलप्रपातों को देखने का यदि सबसे अच्छा समय यदि माना जाए तो वह है अक्टूबर से फरवरी के मध्य का। अक्टूबर के आते-जाते बस्तर में मौसम सुहावना होने लगता है।

कई रंग है

चित्रकोट के गोदावरी की सहायक नदी इंद्रावती पर चित्रकोट नामक स्थान पर यह प्रपात भारत का विशालतम जलप्रपात है। अपनी गिरती विशाल जलराशि के कारण इसे भारत का नियाग्रा भी कहा जाता है। वर्षा ऋतु में इस प्रपात का विस्तार अधिकतम होता है। उस समय इसके पाट की चौड़ाई डेढ़ सौ मीटर तक पहुंच जाती है। हालांकि वर्षा ऋतु में होने वाली दिक्कतों व बाढ़ के कारण उस दौरान बहुत ही कम पर्यटक यहां आते हैं। किंतु जैसे ही वर्षा काल गुजर जाता है तो पानी की मात्रा कम होने से इसका रौद्र रूप घटने लगता है और जल निर्मल होने लगता है। शीत ऋतु आते-आते इसका सौंदर्य परवान चढ़ने लगता है। जगदलपुर से चित्रकोट प्रपात की दूरी 40 किमी है। इस स्थान पर इंद्रावती नदी की जलधारा 90 फीट की ऊंचाई से भारी गर्जना के साथ गिरती है। इस विशाल जलराशि के नीचे गिरने से पैदा होने वाली जल की सूक्ष्म बूंदें आस-पास कुहासा पैदा करती हैं। सूर्योदय व सूर्यास्त के समय इसकी छटा और निराली लगती है क्योंकि  तब इस पर पड़ने वाली सूर्य की रश्मियां इंद्रधनुषी प्रभाव पैदा करती हैं।

पहर के हिसाब से रंग

इस प्रपात का रंग पहर के हिसाब से बदलता रहता है। नीचे गिरते ही नदी का प्रवाह शांत हो जाता है। प्रपात के समीप आप नौकायन का आनंद ले सकते हैं। कई पर्यटक नौका से उस स्थल के करीब तक जाते हैं जहां प्रपात का प्रवाह गिरता है। यह अपने आप में न भूलने वाला क्षण होता है जब डर और विस्मय से आंखें खुली की खुली रह जाती हैं। स्थानीय मछुआरों को अपनी पारंपरिक डोंगियों में मछली पकड़ते देखा जा सकता है। चित्रकोट के सौंदर्य को यदि आप चारों पहर निहारना चाहते है तो एक दिन कम से कम आपको चाहिए। तब आप इस प्रपात के हर रूप को देख सकते हैं। रुकने के लिए सबसे अच्छा है समीप में विश्रामगृह-जहां से आप इसे अपलक देख सकते हैं। यदि वहां स्थान न हो तो तट पर टेंट कालोनी भी एक विकल्प है। वैसे जगदलपुर से यहां तक आने वाले मार्ग के मध्य अब कुछ रिसोर्ट बन रहे हैं। चलने से पूर्व आप चाहे तो प्रपात के समीप ही आदिवासी शिल्पियों द्वारा बना हस्तशिल्प भी खरीद सकते हैं। चित्रकोट में इस विशाल प्रपात को बनाने के बाद नदी एकदम शांत हो जाती है जहां से आगे इंद्रावती अपनी बड़ी बहन गोदावरी से मिलने को चल देती है। पूर्व में उड़ीसा में कालाहांडी की पहाडि़यों से निकलने वाली इंद्रावती नदी बस्तर व दंतेवाड़ा जिलों का 265 किमी का रास्ता तय करने के बाद पश्चिम में आंध्र व महाराष्ट्र की सीमा पर गोदावरी से मिल जाती है। दंतेवाड़ा में भी उसकी छटा देखने योग्य होती है।

मनोहारी दृश्य

दंतेवाड़ा में राज्य के प्रसिद्ध पुरातात्विक स्थान बारसूर के निकट माण्डर में यह नदी बोध घाटी से गिरने पर सात धाराओं में विभक्त होकर एक मनोहारी दृश्य प्रस्तुत करती है जिन्हें सात अलग-अलग नामों बोधधारा कपिलधारा, पांडवधारा, कृष्णधारा, शिवधारा, बाणधारा व शिवचित्रधारा नाम से जाना जाता है। यह क्षेत्र घने वन्य क्षेत्र में होने के कारण यहां की छटा रमणीय है। किंतु यदि आप जगदलपुर से सातधारा जाना चाहते हैं तो अलग से योजना बनानी होती है। इसलिए यहां जाने से पहले तय कर लें कि आपको इस दिन क्या-क्या देखना है? अच्छा हो कि आप उस दिन जगदलपुर-भवानीपट्टनम राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित गीदम से 25 किमी दूर बारसूर नामक स्थान पर में फैले नागगुगीन पुरातात्ति्‍‌वक स्थलों को भी देख लें। बारसूर से 22 किमी. की दूरी पर और दंतेवाड़ा स्थित शक्तिपीठ दंतेश्वरी मंदिर का भी भ्रमण कर सकते हैं जो कि एक अनुपम मंदिर है। यदि इस दिन बुधवार है तो आप यहां लगने वाले साप्ताहिक हाट को भी देख सकते हैं। चाहे तो उस दिन दंतेवाड़ा में भी रुक सकते हैं और अगले दिन बछेली व आकाश नगर जा सकते है। यहीं पर भारत में लौह अयस्क का विशाल खनन क्षेत्र बैलाडिला है।

एक अनूठा उद्यान

200 वर्ग किमी में फैला कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान सुकमा-कोंटा मार्ग पर जगदलपुर से 45 किमी दूर है। यह उद्यान प्रकृति के कई रूपों से परिपूर्ण है। यहां न केवल वन्य जंतुओं को देखा जा सकता है बल्कि इसके अंदर एक मनोरम जलप्रपात तीरथगढ़ व प्राचीन गुफाएं है। वन्य जंतुओं में रुचि लेने वाले चाहे तो इस उद्यान में कई प्रकार के जानवरों को देख सकते हैं। पहाड़ी मैना भी इनमें एक है। इस उद्यान में सागौन के घने जंगल अपने अनछुए रूप में देखे जा सकते हैं। जैव-विविधता से परिपूर्ण यह उद्यान एक नायाब स्थान है। वृक्षों का घनापन इतना कि सूर्य की रश्मियों को भी नीचे पहुंचने के लिए संघर्ष करना होता है।

तीरथगढ़ प्रपात भी दर्शनीय

तीरथगढ़ जलप्रपात जलराशि की दृष्टि से तो बहुत विशाल नहीं है किंतु दर्शनीय है। इस स्थान की भौगोलिक संरचना ऐसी है जहां से कांगेर नदी जब नीचे गिरती है तो गिरती जलराशि एक स्थान की बजाय विशाल चट्टान के ऊपर बिखर जाती है। यहां पर नदी का प्रवाह अलग-अलग खंडों में गिरकर दो-तीन प्रपात बनाता है। गिरने पर पानी की धारा धवल चांदी की तरह चमकती हुई प्रतीत होती है। कई पर्यटक तो यहां पर नहाने का मोह नहीं छोड़ पाते हैं। तीन स्तरों पर प्रपात बनाने के बाद नदी की धारा अठखेलियां करते हुए संकरी घाटी में आगे बढ़ जाती है।

कोटुम्बसर गुफा

उद्यान के भीतर एक और चीज देखने योग्य है वह है यहां की गुफाएं। कोटुमसर (कोटुम्बसर) गुफा भी भूमिगत गुफा है। इस गुफा का प्रवेश मार्ग बेहद संकरा है। लगभग 320 मीटर लंबी व 20 से 60 मीटर की गहराई पर बनी इस गुफा की गिनती विश्व की प्राकृतिक रूप से बनी विशालतम भूमिगत गुफाओं में होती है। इसे बगैर गाइड व उचित प्रकाश व्यवस्था के नहीं देखा जा सकता है। उद्यान के मुख्य द्वार से गाइड मिल जाता है जो आपको इस गुफा का मार्ग दिखलाने व प्रकाश व्यवस्था का कार्य करता है। गुफा के द्वार पर इस बात का कतई भी अहसास नहीं होता है कि यह गुफा इतनी बड़ी होगी।

इसमें प्रवेश के लिए पहले भूमि के अंदर संकरी सीढि़यों से बीस मीटर नीचे उतरना होता है। इसके बाद आप पहुंचते हैं गुफा में ही एक खुले स्थान में। आगे बढ़ने पर आपको चूने की झूलती स्टेलेक्टाइट चट्टानें व स्टेलेग्माइट चट्टानें नजर आती हैं। गौर से देखने पर आपको इनमें कई रूप नजर आने लगते हैं मानो इनको किसी ने गढ़ा हो। गुफाएं लंबी है इसलिए थकावट हो सकती है। गुफा का वातावरण बेहद गर्म होने से जब आप बाहर निकलते हैं तो आपके माथे पर पसीना न आए ऐसा कम ही होता है। थोड़ी दूरी पर दो अन्य गुफाएं दंडक व कैलाश पड़ती हैं। समय हो तो बस्तर व दंतेवाड़ा में कई प्रपात- चित्रधारा, गुप्तेश्वर, मल्गेर, महादेव घूमर, हाथी दरहा, तामड़ा घूमर भी देखें जा सकते हैं।

VN:F [1.9.1_1087]
Rating: 6.4/10 (13 votes cast)
भारत का नियाग्रा: चित्रकोट , 6.4 out of 10 based on 13 ratings



Leave a Reply

    * Following fields are required

    उत्तर दर्ज करें

     (To type in english, unckeck the checkbox.)

आपके आस-पास

Jagran Yatra