उड़ीसा

पर्यटन

राजधानी भुवनेश्वर का लिंगराज मन्दिर, पुरी का जगन्नाथ मन्दिर और समुद्री तट सुविख्यात हैंकोणार्क, नंदन कानन, चिल्का झील, धौली बौध्द मन्दिर, उदयगिरि और उदयगिरि के बौध्द भित्तिचित्र और प्राचीन गुफाए, सिमिलिपाल राष्ट्रीय उद्यान तथा बाघ परियोजना, उषाकोठी वन्य प्राणी अभयारण्य, हीराकुंड बाध, दुदुमा झरना, गोपालपुर समुद्री तट, हरिशंकर, नृसिंहनाथ, तारातारिणी, भितरकणिका, भीमकुण्ड, कपिलाश आदि राज्य के अन्य प्रसिध्द पर्यटन केन्द्र हैं

राष्ट्रीय उद्यान

उडीसा के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान निम्नलिखित हैं : सिमिलिपाल राष्ट्रीय उद्यान (मयूरगंज) (845.7 वर्ग किमी.) भितरकणिका राष्ट्रीय उद्यान (कटक) (367 वर्ग किमी.)

प्रमुख पर्व और मेले

डोला पूर्णिमा (होली), रथ यात्रा, चन्दन यात्रा, बाली यात्रा, धनु यात्रा यहा के प्रसिध्द पर्व हैं। इनके अतिरिक्त कोणार्क दांस फेस्टिवल भी आयोजित किये जाते हैं।

उड़ीसा के आर्टिकल्स

उड़ीसा : जहां विराजते हैं जगत के नाथ

उड़ीसा : जहां विराजते हैं जगत के नाथ

उड़ीसा का नाम लेते ही आंखों के सामने दूर-दूर तक फैले सागर और पत्थरों में उकेरे देवस्थलों की एक अद्भुत और बहुरंगी छटा तैर जाती है। रंगीन चित्रों के इस दृश्य में क्या नहीं होता-कोणार्क का अप्रतिम सूर्य मंदिर, पुरी की विशाल रथ... आगे पढ़े

एक दुनिया जंगल की:सिमलीपाल नेशनल पार्क

एक दुनिया जंगल की:सिमलीपाल नेशनल पार्क

यह बात अजीब लग सकती है, लेकिन है सच। सफारी टूर केवल अफ्रीकी देशों की धरोहर नहीं है। अगर सफारी का मतलब घने जंगलों के बीच स्वच्छंद विचरना और जंगली जीवों को उनके प्राकृतिक परिवेश में देखना ही है, तो उड़ीसा में इसके सभी साधन हैं।... आगे पढ़े

स्वीकारें पूरब के गौरव उड़ीसा का नेह निमंत्रण

स्वीकारें पूरब के गौरव उड़ीसा का नेह निमंत्रण

बंगाल की खाड़ी की अपार जलराशि और दूर-दूर तक फैले ईस्टर्न घाट के जंगलों की हरियाली से सुसज्जित पर्वतश्रृंखलाओं के बीच स्थित है उड़ीसा की मनोरम भूमि। मन मोह लेने वाली सांस्कृतिक विशिष्टताएं, पहाड़ और जंगल, स्वच्छ और शांत गांव... आगे पढ़े

उड़ीसा का नगीना है चिल्का झील

उड़ीसा का नगीना है चिल्का झील

ऐतिहासिक एवं धार्मिक पर्यटन स्थलों की भूमि उड़ीसा में एक प्राकृतिक नगीना चिल्का झील है। राज्य के समुद्रतटीय हिस्से में पसरी यह झील अपने अवर्णनीय सौंदर्य एवं पक्षी जीवन के लिए विश्वप्रसिद्ध है। बंगाल की खाड़ी से सटी चिल्का... आगे पढ़े

कोरापुट : एक टुकड़ा स्वर्ग का

कोरापुट : एक टुकड़ा स्वर्ग का

अपनी शांति, सुंदरता व धार्मिक महत्ता के लिए प्रसिद्ध उड़ीसा की पहचान सिर्फ खूबसूरत समुद तटों, स्थापत्य के नमूनों, झीलों और लैगूनों तक ही सीमित नहीं है। दुनिया भर से आने वाले पर्यटकों के लिए आकर्षण के कई केंद्र यहां हैं। वैसे... आगे पढ़े

उड़ीसा में बौद्ध धर्म के प्रमुख केंद्र

उड़ीसा में बौद्ध धर्म के प्रमुख केंद्र

उड़ीसा में ऐसी कई जगहें हैं, जिनके  बारे में अभी भी पूरी जानकारी दुनिया को नहीं है। प्रकृति के चमत्कारों के अलावा यहां बौद्ध धर्म से जुड़े अवशेष भी हैं। जिस तरह कपिलवस्तु, बोधगया व सारनाथ का संबंध भगवान बुद्ध के जीवन से है, वैसे... आगे पढ़े

उड़ीसा में पर्यटन का सुनहरा त्रिकोण

उड़ीसा में पर्यटन का सुनहरा त्रिकोण

उड़ीसा में पर्यटन की दृष्टि से सबसे महत्वपूर्ण स्थल हैं भुवनेश्वर, पुरी और कोणार्क। इन्हीं जगहों के लिए यहां सबसे अधिक पर्यटक आते हैं और ये तीनों जगहें एक-दूसरे से बमुश्किल 65 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। इसे उड़ीसा में पर्यटन... आगे पढ़े

Page 2 of 2«12