पहाड़ों की वादियों में बिताएं गर्मी की छुट्टियां

  • SocialTwist Tell-a-Friend

सैर-सपाटे के शौकीन लोगों को तो जैसे ग्रीष्मावकाश की प्रतीक्षा रहती है। जब परिवार सहित पर्वतों की सुरम्य वादियों में पहुंचने को मन करता है। हिमालय की विभिन्न पर्वत श्रृंखलाओं में एक के बाद एक अनेक ऐसे स्थल मौजूद हैं, जहां से लौटने का भी मन नहीं होता। और फिर लौटने की जल्दी भी क्या है? एक स्थान देखिए दूसरे की ओर बढ़ जाइए। जहां आपको प्रकृति का एक और नया रूम नजर आएगा।

कुल्लू घाटी में पर्वतीय स्थलों की इस लंबी श्रृंखला की शुरुआत वैसे कश्मीर की मनोरम घाटियों से होती है। कश्मीर की खूबसूरती के बाद कुल्लू घाटी एवं मनाली का प्राकृतिक सौंदर्य के मामले में पहला स्थान है। कुल्लू घाटी को तो देवताओं की घाटी ही कहा जाता है। ब्यास नदी के दोनों ओर बसा कुल्लू शहर घाटी के मध्य स्थित है। कुल्लू का बिजली महादेव मंदिर घाटी के भव्य मंदिरों में से एक है। यहां का दशहरा उत्सव तो विश्व भर में प्रसिद्ध है।

निकोलस रोरिक की कला दीर्घा

कुल्लू के निकट नग्गर नामक स्थान पर भी अनेक दर्शनीय मंदिर हैं। प्रसिद्ध चित्रकार एवं मूर्तिकार निकोलस रोरिक की कला दीर्घा भी यहीं है। यहां से लगभग 46 किमी दूर है मणीकर्ण। यह स्थान सिक्खों एवं हिंदुओं का धार्मिक स्थल है। यहां प्रसिद्ध गुरुद्वारे और मंदिर में उष्ण जल के स्त्रोत हैं।    कुल्लू से करीब 42 किमी दूर स्थित मनाली भी व्यास नदी के ही तट पर बसा है। यहां से दिखाई पड़ती बर्फीली चोटियां एवं आसपास फैले सेबों के बाग मनाली की विशेषता हैं। हिडिम्बा देवी मंदिर, तिब्बती मठ और वशिष्ठ बाथ यहां के मुख्य दर्शनीय स्थान हैं। मनाली से 13 किमी दूर सोलांग घाटी भी एक मनमोहक पर्यटन आकर्षण है। करीब 52 किमी दूर प्रसिद्ध रोहतांग दर्रा अपनी खूबसूरती से पर्यटकों का प्रभावित करता है। कुल्लू एवं मनाली दोनों ही स्थानों पर स्थानीय भ्रमण के लिए बस एवं टैक्सी द्वारा साइट सीन टूर चलते हैं।

कैसे पहुंचें

इन स्थानों पर पहुंचने के लिए दिल्ली एवं चंडीगढ़ से सीधी बस सेवाएं उपलब्ध है। सामान्य एवं डीलक्स बसों द्वारा यह सफर दिल्ली से 15 घंटे एवं चंडीगढ़ से 10 घंटे का है। कुल्लू के निकट भुंतर में एक हवाई अड्डा भी है। मनाली से 9-10 घंटे का  पहाड़ी सफर तय करके पर्यटक शिमला पहुंच सकते हैं।

सैलानियों की पसंद शिमला

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला समुद्र तल से 2215 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है आजादी से पूर्व यह शहर अंग्रेजों की ग्रीष्मकालीन राजधानी था। उस दौर के अनेक सुंदर भवन एवं चर्च आज भी सैलानियों को आकर्षित करते हैं। शिमला का मॉल रोड पर्यटकों का पसंदीदा स्थल है। यहां की रौनक हर समय देखते ही बनती है। जाखू हिल, वायसराय लॉज, काली मंदिर राजकीय संग्रहालय यहां के दर्शनीय स्थल है। आसपास के स्थानों में वाइल्ड फ्लावर हाल, कुफ्री, मशोब्रा, नालटेहरा, चैल आदि भी प्रकृति पूरित देखने योग्य स्थल हैं। इन स्थानों से हिममंडित शिखर भी स्पष्ट नजर आते हैं। वैसे शिमला की सैर का वास्तविक आनंद लेना है तो कालका से शिमला के मध्य चलने वाली टॉय ट्रेन में अवश्य सफर करना चाहिए।

कैसे पहुंचें

दिल्ली और चंडीगढ़ से शिमला के लिए  नियमित बसें चलती हैं। रेलमार्ग से दिल्ली से कालका    तक पहुंचा जा सकता है। कालका से आठ घंटे का सफर तय कर शिमला पहुचा जा सकता है। शिमला-कालका के मध्य टॉय ट्रेन द्वारा पहाड़ी मार्ग तय करने का अपना अलग आनंद है।  कालका देश के अनेक   शहरों से रेलमार्ग से जुड़ा है। शिमला वैसे हवाई मार्ग  द्वारा भी जुड़ा है। इसके अलावा चंडीगढ़ भी यहां से निकटतम हवाई अड्डा है।

शांत सैरगाह है नाहन

शिमला एक व्यस्त हिल स्टेशन है। इसके बाद किसी शांत और छोटी सैरगाह जाने का मन है तो सोलन होकर कसौली या नाहन पहुंच सकते हैं। शिवालिक पहाडि़यों में बसा नाहन एक छोटा किंतु मनोरम स्थल है। यहां के मंदिर, बाग एवं यहां का रानीताल दर्शनीय स्थान है। सीधे नाहन पहुंचना हो तो अंबाला होकर आसानी से पहुंच सकते हैं। वहां से यह 64 किमी दूर है नाहन। नाहन से 45 किमी की दूरी पर रेणुका झील है। अप्रतिम सौंदर्य वाली यह झील पर्यटकों को जैसे सम्मोहित ही कर लेती है। इसी क्षेत्र में रेणुका अभ्यारण्य भी देखने योग्य स्थल है। दूसरी ओर पोंटा साहिब भी लगभग 45 किमी दूर है। सिक्खों के इस पवित्र स्थल का संबंध दशम गुरु गोविंद सिंह जी के जीवन से रहा है। पोंटा से अगर चाहें तो पर्यटक देहरादून होकर वापस लौट सकते हैं अथवा उत्तरांचल के पर्वतीय स्थलों की सैर कर सकते हैं।

कैसे पहुंचें

नाहन के लिए अंबाला एवं चंडीगढ़ से बस सेवा उपलब्ध है तथा पोंटा के लिए देहरादून से भी बस या टैक्सी द्वारा जा सकते हैं।

पर्वतों की रानी मसूरी

उत्तरांचल के पहाड़ी पर्यटन स्थलों में सबसे पहला नाम मसूरी का आता है। मसूरी का सौंदर्य सैलानियों को इस कदर प्रभावित करता है कि इसे पर्वतों की रानी भी कहा जाता है। लायब्रेरी रोड से क्लॉक टॉवर तक फैले मॉल रोड पर यहां हर समय रौनक रहती है। लायब्रेरी रोड से कुली बाजार तक दूसरा मार्ग कैमल बैक रोड एक शांत मार्ग है। यहां से दूर तक फैले पर्वतीय दृश्य नजर आते हैं। रोपवे द्वारा गनहिल पर पहुंचकर दूरबीन के जरिये अनेक हिमाच्छादित शिखर देखे जा सकते हैं। इनके अलावा लाल डिब्बा, हैप्पी वैली, म्युनिसिपल गार्डन देखने योग्य अन्य स्थान हैं। करीब 11 किमी दूर केंप्टी फॉल भी यहां का खास आकर्षण है। यहां के हरे-भरे वनों की खूबसूरती को परखना हो तो आप धनोल्टी पहुंच सकते हैं। मसूरी से अगर आप ऋषिकेश पहुंच जाएं तो आपके पास अनेक विकल्प हो सकते हैं। दरअसल ऋषिकेश उत्तरांचल के चार धामों का प्रवेश द्वार है। यहां से तीर्थ यात्रा बसों द्वारा या टैक्सी करके आप बद्रीनाथ, केदारनाथ, यमुनोत्री, गंगोत्री की यात्रा कर सकते हैं। जिसके लिए लगभग एक सप्ताह का समय होना चाहिए। ध्यान रहे इसमें यमुनोत्री एवं केदारनाथ में 13-14 किमी की पैदल यात्रा भी शामिल है। ऋषिकेश अपने आपमें एक धार्मिक नगरी है। यहां लक्ष्मण झूला, शिवानंद झूला, स्वर्गाश्रम, परमार्थ निकेतन आदि अनेक स्थल दर्शनीय हैं।

कैसे पहुंचें

देहरादून रेल मार्ग द्वारा दिल्ली व अन्य बड़े शहरों से जुड़ा है। वहां से मसूरी का सफर मात्र एक घंटे का है। मसूरी के लिए दिल्ली से सीधे बस द्वारा जाना हो तो लगभग आठ घंटे का समय लगता है।    आसपास के अन्य स्थल    लंबी यात्रा एवं अधिक से अधिक स्थान देखने वाले लोग बद्रीनाथ मार्ग पर स्थित कर्णप्रयाग से आदिबद्री, गैरसैण होकर रानीखेत पहुंच सकते हैं या इसी मार्ग पर श्रीनगर से पौड़ी लैंसडाउन आदि स्थान देखते हुए कोटद्वार आ सकते हैं। कोटद्वार से एक मार्ग दिल्ली की ओर जाता है तो दूसरा कालागढ़ होकर कॉर्बेट नेशनल पार्क की ओर जाता है। वन्य जीवन को करीब से देखने की चाह है तो कॉर्बेट नेशनल पार्क उपयुक्त स्थान है। जहां दिल्ली से रामनगर होकर सीधे भी जाया जा सकता है। वहां से आप सीधे नैनीताल भी जा सकते हैं। नैनीताल से 60 किमी दूर रानी खेत, वहां से 50 किमी दूर अल्मोड़ा तथा अल्मोड़ा से 52 किमी दूर कौसानी ऐसे स्थल हैं जहां आप चाहें तो कुछ दिन बिता सकते हैं अथवा नैनीताल से दो-तीन के पैकेजटूर द्वारा इन्हें देख सकते हैं। ये सभी स्थान बस मार्ग द्वारा आपस में बखूबी जुड़े हुए हैं। नैनीताल पहुंचने के लिए दिल्ली, हल्द्वानी, मुरादाबाद, काठगोदाम से बस एवं टैक्सी उपलब्ध हैं। वैसे काठगोदाम तक रेलगाड़ी द्वारा पहुंचकर वहां से टैक्सी ली जा सकती है।

ठहरने की जगहें

मजे की बात यह है कि इनमें से किसी भी स्थान पर बजट होटलों की कोई कमी नहीं है। मनाली, शिमला, मसूरी, नैनीताल आदि में लग्जरी होटल भी है। हालांकि गर्मी के दिनों में पर्यटकों भीड़ बढ़ जाने के कारण कई होटलों के किराये बहत बढ़ जाते हैं। फिर भी अगर आप पहले से तैयारी कर किसी अधिकृत एजेंट के माध्यम से या सीधे संपर्क कर बुकिंग करा लें तो आसानी से स्थान पा सकते हैं। आप अपनी सुविधा एवं समय को देखकर इनमें से चुने हुए सर्किट की यात्रा भी कर सकते हैं।

VN:F [1.9.1_1087]
Rating: 7.5/10 (122 votes cast)
पहाड़ों की वादियों में बिताएं गर्मी की छुट्टियां, 7.5 out of 10 based on 122 ratings



Leave a Reply

    * Following fields are required

    उत्तर दर्ज करें

     (To type in english, unckeck the checkbox.)

आपके आस-पास

Jagran Yatra